राष्ट्रपति चुनाव : मीरा कुमार को समर्थन देने में ‘आप’ हुई दोफाड़


राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार को होने वाले मतदान से ठीक पहले आम आदमी पार्टी के एक विधायक और 2 सांसदों ने पाटी लाइन से हट कर वोटिंग करने का फैसला लिया है। विधायक एच.एस. फूलका ने जहां मीरा कुमार को वोट देने के पार्टी के फैसले का विरोध करते हुए उन्हें वोट न देने का ऐलान किया है, वहीं आप के 2 निलंबित सांसदों ने पार्टी लाइन को छोड़ अंतरात्मा की आवाज सुनने का फैसला लिया है। ‘आप’ के चीफ व्हिप सुखपाल खैहरा ने कहा कि पार्टी हाईकमान ने यू.पी.ए. की उम्मीदवार मीरा कुमार के समर्थन का फैसला लिया है। लिहाजा हम पार्टी के फैसले का सम्मान करते हुए उन्हें वोट देंगे। उधर, फूलका पार्टी के फैसले से हटकर एन.डी.ए. के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को अपना वोट देंगे।

फूलका ने कहा कि कांग्रेस के हाथ 84 के दंगों में सिखों के खून से सने हैं। उधर, मीरा कुमार को समर्थन के ऐलान से पंजाब में पार्टी के अंदर भारी रोष है। मालूम हो कि आप संगठन में गर्मख्याली नेताओं की संख्या अधिक होने के कारण सोशल मीडिया पर पार्टी हाईकमान के फैसले के खिलाफ बकायदा अभियान चलाया गया। उधर, संगठन के इंचार्ज अमन अरोड़ा ने कहा कि फूलका का फैसला इमोशनल इश्यू है, वह लंबे समय से 84 के पीड़ितों का केस लड़ रहे हैं। लिहाजा उनके फैसले का सम्मान करना चाहिए और चूंकि राष्ट्रपति चुनाव में आप का कोई उम्मीदवार भी नहीं है लिहाजा इसे मुद्दा नहीं बनाया जाना चाहिए। उधर, पार्टी के दो निलंबित सांसद डा. धर्मवीर गांधी और हरिंदर सिंह खालसा भी पार्टी लाइन को छोड़ केजरीवाल की नहीं बल्कि अंतरात्मा की  आवाज को सुनकर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। डा. गांधी ने कहा कि पार्टी की ओर से कोई व्हिप जारी नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि वह अंतरात्मा की आवाज सुनेंगे। कमोबेश यही फैसला हरिंदर सिंह खालसा ने भी लिया है।

Comments