भाजपा के सामने खड़ा हुआ संकट, योगी की कुर्सी खतरे में

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के एमएलसी के इस्तीफे से खाली हुईं सीटों पर उपचुनाव के लिए गुरुवार को चुनाव आयोग ने नोटिस जारी कर दी. वहीँ अब भाजपा के सामने भी इन सीटों पर किसको दावेदार बनाया जाये इसको लेकर माथा पच्ची  है.
भाजपा के सामने खड़ा हुआ संकट, योगी की कुर्सी खतरे में
सूबे की चार सीटों के लिए 29 अगस्त को अधिसूचना जारी की जाएगी. मतदान 15 सितंबर को होगा. हाल के दिनों में यह सीटें सपा के बुक्कल नवाब, यशवंत, अशोक वाजपेयी, सरोजनी अग्रवाल और यशवंत सिंह के त्यागपत्र देने से रिक्त हुई है. यह सभी भाजपा में शामिल हो चुके हैं.
सीएम बनेंगे एमएलसी या मंत्री
अब सबसे बड़ी उलझन भाजपा के सामने है. 4 सीटें हैं और दावेदार 5 हैं. मुख्यमंत्री योगी  आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या और दिनेश शर्मा, मंत्री मोहसिन रजा और स्वतंत्रदेव सिंह किसी भी सदन के सदस्य नहीं है. इन चार सीटों पर केवल चार लोग ही एमएलसी बन सकते हैं.अब देखना होगा कि भाजपा मुख्यमंत्री को एमएलसी बनाती है या मंत्रियों को.
चुनाव आयोग के मुताबिक इसके लिए 29 को अधिसूचना जारी होगी. 5 सितम्बर नामांकन की अंतिम तिथि होगी. 6 सितम्बर को उम्मीदवारों के आवेदन की स्क्रूटनी होगी. 8 सितम्बर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे. वहीँ इन चरों सीटों पर निर्विरोध चुना जाना लगभग तय माना जा रहा है, क्योंकि भाजपा के पास ही विधायकों की संख्या है.ऐसे में कोई दल शायद ही उमीदवार खड़ा करे.

Comments